हर सफल ट्रेडर फॉलो करते है ये 7+ ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम

ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम: नमस्कार दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम को जानेंगे जो की ट्रेडिंग करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को पता होना चाहिए, अगर आप 2024 में ऑप्शन ट्रेडिंग से मोटा प्रॉफिट कमाना चाहते है और ट्रेडिंग में सफलता हासिल करना चाहते है, तोह उसके लिए आपको ट्रेडिंग के बेसिक रूल्स को समझना होगा, अगर आप ऑप्शन ट्रेडिंग के बेसिक रूल्स को फॉलो नहीं करेंगे तोह आपको ट्रेडिंग में काफी लॉसेस का सामना करना पड़ सकता है।

आज स्टॉक मार्केट में जितने भी सफल ट्रेडर है फिर चाहे वोह इंडियन हो या फॉरेनर ट्रेडर सब में एक बात कॉमन है, यह सभी ट्रेडर्स ऑप्शन ट्रेडिंग के बेसिक रूल्स को फॉलो करते है, जिसके कारन ही वे आज एक सफल ट्रेडर है। दोस्तों आज हम जो ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम बताने जा रहे है, अगर आपने इन नियमो को अपने ट्रेडिंग में उतार लिया तो आपको एक सफल ट्रेडर बनने सो कोई नहीं रोक सकता।

चलिए अब बिना समय गवाए जान लेते है, आखिर कौनसे वह ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम है जो आपके ट्रेडिंग जर्नी को प्रॉफिटेबल बना सकते है।

Table of Contents

हर सफल ट्रेडर फॉलो करते है ये 7+ ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम

  • नियम 1: ट्रेडिंग को गहराई से समझे
  • नियम 2: लोन लेकर ट्रेडिंग भूलकर भी न करे
  • नियम 3: बिना किसी स्ट्रेटेजी के ऑप्शन ट्रेडिंग न करे
  • नियम 4: अपना सारा कैपिटल एक साथ ट्रेड में न लगाए
  • नियम 5: एक साथ मल्टिपल ट्रेड होल्ड करने से बचे
  • नियम 6: ओवर ट्रेडिंग करने से बचे
  • नियम 7: न्यूज़ बेस्ड ट्रेडिंग करने से बचे
  • नियम 8: ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स का प्रयोग करना न भूले

नियम 1: ट्रेडिंग को गहराई से समझे

दोस्तों अगर आप ऑप्शन ट्रेडिंग में अपना हाथ आजमाना चाहते है तोह सबसे पहले ट्रेडिंग को गहराई से समझे जी हाँ, ऑप्शन ट्रेडिंग का सबसे पहला नियम यही है की, आप जिस चीज को करना चाहते है उसकी आपको गहरी समझ होनी चाहिए, बहुत से नए लोग ट्रेडिंग के बारे में सुनकर और दुसरो के प्रॉफिट को देखकर इन्फ्लुएंस हो जाते है और बिना ऑप्शन ट्रेडिंग को सीखे अपना पैसा ट्रेड में लगाने लगते है जिससे उनको काफी तगड़ा लोस्स का सामना करना पड़ता है, इसलिए ट्रेडिंग में घुसने से पहले ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में सब कुछ गहराई से सीखे और समझे, उसके बाद ही ऑप्शन ट्रेडिंग में आये।

नियम 2: लोन लेकर ट्रेडिंग भूलकर भी न करे

ऑप्शन ट्रेडिंग का दूसरा इम्पोर्टेन्ट नियम यह है की ” कभी भी लोन लेकर ट्रेडिंग न करे” इससे आप बड़ी मुसीबत में पड़ सकते है जी हाँ, ज्यादातर नए स्टॉक मार्केट ट्रेडर जब भी ऑप्शन में कम कैपिटल से ट्रेड करते है तोह शुरू-शुरू में उन्हें इत्तेफाक से प्रॉफिट ही मिलता है, जिससे प्रेरित होकर वे अक्सर लोन लेकर ट्रेडिंग करने की सोचते है ताकि उन्हें एक साथ ट्रेडिंग से मोटा प्रॉफिट मिल सके, जोकि गलत धारणा है।

अगर आप भी ऐसा करने की सोचते है तोह अभी साबधान हो जाए, आपकी जानकारी के लिए बता दे ऑप्शन ट्रेडिंग में जितना जल्दी प्रॉफिट होता है उतना ही जल्दी लोस्स भी होता है, अगर गलती से आपने लोन के पैसो को लोस्स कर दिया तोह इससे आप बड़ी मुसीबत में पड़ सकते है।

Read Also: {5+} Top Price Action Book in Hindi PDF Free Download

नियम 3: बिना किसी स्ट्रेटेजी के ऑप्शन ट्रेडिंग न करे

ऑप्शन ट्रेडिंग का तीसरा और सबसे इम्पोर्टेन्ट नियम यह है की ” बिना किसी स्ट्रेटेजी के ऑप्शन ट्रेडिंग न करे” जी हाँ आपने एकदम सही सुना, आपकी जानकारी के लिए बता दे ऑप्शन ट्रेडिंग एक zero sum गेम है, इसका मतलब यह है की ऑप्शन ट्रेडिंग में किसी एक का प्रॉफिट होता है तोह वही दूसरी और किसी एक का लोस्स भी होता है, ऐसे में अगर आप बिना किसी स्ट्रेटेजी के ऑप्शंस में ट्रेड करेंगे तोह ज्यादातर केस में आपका लोस्स ही होने वाला है।

ज्यादातर नए स्टॉक मार्केट ट्रेडर्स अक्सर बिना किसी स्ट्रेटेजी के ऑप्शंस में रैंडम ट्रेड करने लगते है, रैंडम ट्रेडिंग का मतलब यह हुआ की, नए लोग जब भी ट्रेडिंग करने के लिए बैठते है जैसे ही उनको लगता है मार्केट ऊपर भागने वाली है उसी क्षण बिना सोचे समझे वे ट्रेड ले लेते है और फिर एक मोमेंटम के बाद मार्केट निचे गिरने लगता है जिससे की उनको लोस्स होने लगता है, इसी को हम रैंडम ट्रेडिंग भी कहते है, और इसी से आपको बचना है, जब तक आपके पास कोई प्रॉपर ऑप्शन स्ट्रेटेजी न हो तब तक ऑप्शंस में ट्रेड करने से बचे।

अगर आप ऑप्शन ट्रेडिंग में बिलकुल नए है तोह अब आपको लग सकता है, ऑप्शन ट्रेडिंग में ये स्ट्रेटेजीज क्या होती है? और ये क्यों जरूरी है, ऑप्शन ट्रेडिंग में स्ट्रेटेजी क्यों जरूरी है इसका जबाब हमने ऊपर वाले लाइन में कवर कर दिया है, चलिए अब समझते है ये स्ट्रेटेजीज क्या होती है, दरअसल ऑप्शन ट्रेडिंग में ट्रेड करने के लिए ट्रेडर्स अपने स्किल्स और प्रेफरेंस के अनुसार ऑप्शन स्ट्रेटेजी यूज़ करते है।

दरअसल टेक्निकल एनालिसिस के अनुसार जब भी ट्रेड किया जाता है तब उसे आसान भाषा में ऑप्शन स्ट्रेटेजी कहते है, यह स्ट्रेटेजी हर किसी के लिए अलग-अलग हो सकता है, कुछ ट्रेडर्स ट्रेडिंग के दौरान कैंडलस्टिक पैटर्न देखते है कुछ सपोर्ट और रेसिस्टेंट देखते है तोह वही कुछ ऑप्शन चैन को देखकर भी ट्रेडिंग करते है और कुछ तोह ऐसे भी है जो इनके अलाबा टेक्निकल इंडीकेटर्स को भी देखते है।

नियम 4: अपना सारा कैपिटल एक साथ ट्रेड में न लगाए

ऑप्शन ट्रेडिंग का चौथा और सबसे इम्पोर्टेन्ट नियम यह है की ” अपना सारा कैपिटल एक साथ ट्रेड में न लगाए” इससे आपका कैपिटल एक साथ खत्म हो सकता है, दोस्तों अक्सर नए लोग जब भी ऑप्शंस में ट्रेड करते है तोह शुरू में उन्हें कम कैपिटल से अच्छा प्रॉफिट मिल जाता है फिर वह सोचने लगते है कम कैपिटल से किया तोह इतना प्रॉफिट मिला क्यों न एक साथ अपना सारा कैपिटल लगा दे ताकि इससे एक बार में ज्यादा प्रॉफिट मिले, दोस्तों कई बार इत्तेफाक और लक से उनका पैसा डबल भी हो जाता है परन्तु हर बार एक जैसा होना इम्पॉसिबल है।

नेक्स्ट टाइम होता यह है की जब वोह बिगिनर ट्रेडर अपना सारा कैपिटल एक साथ ट्रेड करने लगता है तोह उस केस में उसका कैपिटल आधे से भी ज्यादा wipeout हो जाता है, फिर उसके बाद खोये हुए कैपिटल को रिकवर करने के लिए वोह फिर सेम गलती को दोहराता है उसके बाद उसका कैपिटल जीरो हो जाता है,

अगर आप ट्रेडिंग में लम्बे समय तक टिकना चाहते है और ट्रेडिंग से मोटा मुनाफा कमाकर सफल ट्रेडर बनना चाहते है तोह, आप इस बात को गांठ बांध लीजिये आपको कभी भी किसी भी हालत में अपना सारा कैपिटल एक साथ ट्रेड में नहीं लगाना है, इस ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम को आपको हमेशा याद रखना है.

मान लेते है आपका कैपिटल ₹50,000 हजार का है, तोह पुरे ₹50k से ट्रेड करने के बजाये इनको आप चार हिस्सों में बाँट दे, जब आप ₹50k को चार हिस्सों में बाटेंगे तब आपके पास हर हिस्से में ₹12,500 रूपए बचेंगे, अब आपको सिर्फ ₹12,500 रूपए से ही ट्रेड करना है, इससे होगा ये आपका रिस्क तोह कम होगा ही साथ-ही -साथ इससे आपका मेन्टल हेल्थ भी अच्छा रहेगा जिससे आप ट्रेडिंग अच्छे से कर पाएंगे।

वही अगर आपने पुरे ₹50,000 हजार से ट्रेडिंग कर दिया गलती से आपका पूरा लोस्स हो गया तोह आप मेन्टल स्ट्रेस से गुजरेंगे और इससे आप नेक्स्ट टाइम बेहतर ढंग से ट्रेडिंग को कंटिन्यू नहीं कर पाएंगे, आपके लिए बेहतर यही है की अपने रिस्क टॉलरेंस के हसाब से ही ट्रेडिंग करे, और ध्यान रहे अपना सारा कैपिटल एक ही ट्रेड में नहीं डालना।

नियम 5: एक साथ मल्टिपल ट्रेड होल्ड करने से बचे

ऑप्शन ट्रेडिंग का पांचवा और सबसे इम्पोर्टेन्ट नियमो में से एक यह है की ” एक साथ मल्टिपल ट्रेड करने से बचे” जी हाँ आपने एकदम सही सुना, दोस्तों दरअसल हर शुरुआती स्टॉक मार्केट ट्रेडर अक्सर ट्रेडिंग के दौरान एक ही समय पर मल्टिपल ट्रेड होल्ड करने की गलती करते है जिसे एक समय पर मल्टिपल ट्रेड को मैनेज करना काफी कठिन होता है, जिसके कारन अंत में बस लोस्स ही होता है

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दे दुनिया में जितने भी प्रोफेशनल ट्रेडर्स है वह सभी खास एक्सपीरियंस होने के बाद भी एक समय पर केबल 2-3 ट्रेड ही होल्ड करते है,वह ऐसा इसलिए करते है क्यूंकि ट्रेडिंग में काफी वोलैटिलिटी शामिल होता है जिसके कारन एक साथ ज्यादा ट्रेड को होल्ड कर पाना काफी कठिन होता है, जिसकी वजह से नए लोगो को काफी लोस्स होता।

अगर आप ऐसी गलती अपनी ट्रेडिंग में करते है तोह अभी संभल जाए, अन्यथा अंत में आपका ही नुक्सान होने वाला है, इसलिए अगर सफल ट्रेडर बनना है तोह इन ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम का कठोरता से पालन करना शुरू करदे।

Read Also: Trading Karna Kaise Sikhe: ऐसे बने बिगिनर से प्रो ट्रेडर!

नियम 6: ओवर ट्रेडिंग करने से बचे

ऑप्शन ट्रेडिंग का छठवां और सबसे इम्पोर्टेन्ट नियमो में से एक यह है की ” ओवर ट्रेडिंग करने से बचे ” जी हाँ दोस्तों, अक्सर नए स्टॉक मार्केट ट्रेडर्स ओवर ट्रेडिंग करने जैसी बड़ी गलती हमेशा करते रहते है, ओवर ट्रेडिंग करने से कई बार नए ट्रेडर्स को हर ट्रेड पर प्रॉफिट तोह मिलता है परन्तु दिन भर ओवर ट्रेडिंग करने से ओवरआल उनका लोस्स ही होता है।

ऐसा क्यों होता चलिए इसे मै अपने एक दोस्त के उदाहरण से समझाने का प्रयास करता हु, मेरा एक दोस्त है जिसका नाम “अनुज है, अनुज अक्सर निफ़्टी और Nifty Bank में ट्रेड करता है, सुबह मार्केट ओपन होते ही उसका ट्रेडिंग शुरू हो जाता है, शुरू के एक दो ट्रेडस में अनुज अच्छे खासे प्रॉफिट में रहता है।

परन्तु दिनभर बार बार ट्रेडिंग करने से अंत में उसका पोर्टफोलियो लोस्स में ही नज़र आता है, हालांकि अनुज को अभी लग रहा है की वोह प्रॉफिट में है और ऐसा उसके अकाउंट में भी दिख रहा है, परन्तु फिर भी लोस्स है वोह कैसे चलिए बताता हु।

दरअसल क्या होता है की आप जिस किसी भी ब्रोकर का डीमैट अकाउंट ट्रेडिंग करने के लिए इस्तेमाल में लेते है, अक्सर इस तरह के ब्रोकर्स हर ट्रैड पर कम से कम ₹20 रूपीस चार्ज करते है, ध्यान रहे Buy और Sell दोनों पर चार्जेज लगता है, ब्रोकरेज चार्जेज के अलाबा गवर्नमेंट टैक्सेज भी उसमे इंक्लूड रहता है।

तोह मोटा मोती आपको हर ट्रेड पर ऑलमोस्ट ₹60 से ₹70 रूपए चार्ज के रूप में देना होता है, ऐसे में अगर ओवर ट्रेडिंग किया जाए तोह आपका प्रॉफिट हो या न हो ये चार्जेज लगकर आपका लोस्स ही होगा, ऐसा ही अनुज के साथ भी होता है, शुरू में तोह उसे प्रॉफिट होता है परन्तु दिनभर ट्रेडिंग करने से वोह हमेशा लोस्स में ही रहता है।

इसलिए दोस्तों ओवर ट्रेडिंग करने से बचे, दोस्तों अगर मैं अपने ट्रेडिंग एक्सपीरियंस से कहु तोह आपको, एक दिन में 3-4 ट्रेड से ज्यादा ट्रेड नहीं लेना चाहिए, अगर आप इस ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम को सख्ती से पालन नहीं करेंगे तोह गारंटेड आप हमेशा लोस्स में ही रहेंगे, इसलिए इस नियम का पालन करना हर नए पुराने ट्रेडर्स के लिए सबसे महत्वपूर्ण है।

नियम 7: न्यूज़ बेस्ड ट्रेडिंग करने से बचे

ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम अनुसार आपको न्यूज़ बेस्ड ट्रेडिंग करने से बचना चाहिए, दोस्तों आय दिन शेयर बाज़ार में कोई न कोई न्यूज़ आती ही रहती है चाहे वोह नेगेटिव हो या फिर पॉजिटिव आपको न्यूज़ पर नजर रखना जरूर है परन्तु न्यूज़ के बलबूते कभी भी ट्रेडिंग नहीं करना है, ज्यादार न्यूज़ स्टॉक्स, और इंडेक्स को indirectly अफेक्ट करते है जिससे मार्केट में वोलैटिलिटी उत्पन्न होता है।

अगर आप ऐसे में ट्रेड करते है तोह आपको मार्किट में एक सही डायरेक्शन मिलना मुश्किल हो सकता है जिसके कारन आपको भारी नुकसान का भी सामना करना पड़ सकता है, इसलिए एक ट्रेडर के रूप में कभी भी न्यूज़ के बलबूते ट्रेडिंग न करे, और हाँ सफल ट्रेडर बनने के लिए इस ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम का सख्ती से पालन करना कतई न भूले।

नियम 8: ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स का प्रयोग करना न भूले

ऑप्शन ट्रेडिंग का आंठवा और सबसे इम्पोर्टेन्ट नियमो में से एक यह है की ट्रेडिंग करते वक़्त ” ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स का प्रयोग करना न भूले” जी हाँ दोस्तों ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स एक ऐसा ब्रेक है जो आपको ट्रेडिंग में होने वाले बड़े नुक़्सानो से प्रोटेक्ट करता है, जिस प्रकार से किसी गाड़ी का ब्रेक अचाननक होने वाली घटनाओ से बचने के लिए इस्तेमाल किया जाता है उसी प्रकार से ट्रेडिंग में लोस्स को रोकने के लिए स्टॉप-लोस्स का प्रयोग किया जाता है।

चलिए अब बात करते है आखिर ये ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स क्या होता है? और इसका ट्रेडिंग में क्या महत्त्व है और साथ ही यह नार्मल स्टॉपलॉस से कैसे अलग है।

दोस्तों ट्रेडिंग में नार्मल स्टॉप-लोस्स में हम किसी एक प्राइस को स्टॉप-लोस्स लेकर चलते, उदाहरण से समझे तोह, मान लीजिये आपने ₹100 रूपए के प्राइस का कॉल यानि CE ख़रीदा तब हम स्टॉप-लोस्स ₹80 रूपए पर रखते है, जब एक बार अपना स्टॉप-लोस्स हिट हो जाता है तब हम ट्रेड से ऑटोमैटिक निकल जाते है जिससे हमे कम लोस्स होता है, वही अगर हमारा CE ₹100 रूपए से बढ़कर ₹120 रूपए हो जाता है तब भी हमारा स्टॉप-लोस्स सेम ही रहता है।

वही दूसरी और ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स में मान लेता है आपने ₹100 रूपए के प्राइस का कॉल यानि CE ख़रीदा तब हम स्टॉप-लोस्स 80 रूपए पर रखते है, जब ₹100 रूपए के प्राइस का कॉल ₹120 हो जाता है तब हम अपना स्टॉप-लोस्स ₹80 रूपए से बढाकर ₹110 रूपए पर रख देंगे जिससे होगा यह अगर मार्केट अचानक से गिरने भी लगता है तब भी इस कंडीशन में आप प्रॉफिट में ही होंगे, इसी मेथड को ट्रेलिंग-स्टॉप-लोस्स कहा जाता है।

दोस्तों ट्रेलिंग स्टॉप-लोस्स ट्रेडिंग करने वाले सभी ट्रेडर्स के लिए बरदान जैसे है जो आपको हर छोटे-बड़े लॉसेस से बचने और मोटा प्रॉफिट बनाने में मदद करता है, अगर आप ट्रेडिंग में कदम रख रहे है तोह इस ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम को जरूर अपनाये।

Conclusion

दोस्तों आज इस आर्टिकल में हमने डिटेल में 7+ ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम जाना जो हर एक सक्सेसफुल ट्रेडर अपने दिन प्रति दिन के ट्रेडिंग सेशन में यूज़ करते है, अगर आप भी ट्रेडिंग को सीखकर सफल ट्रेडर बनना चाहते है तोह आपको आर्टिकल में सुझाये गए नियमो का पालम करना होगा, क्यूंकि जीवन हो ये ट्रेडिंग सभी के अपने-अपने कुछ नियम होते है अगर आपने उन नियमो का पालन किया तोह आपको ट्रेडिंग फील्ड में सक्सेसफुल होने से कोई नहीं रोक सकता।

दोस्तों आपको सिर्फ ट्रेडर नहीं बनना है आपको प्रॉफिटेबल ट्रेडर बनना है, आप भली भांति जानते होंगे मार्केट में हर कोई ट्रेडर है परन्तु आधे से ज्यादा लोस्स में है, इसलिए इन नियमो का पालन करे और सफल ट्रेडर बने।

दोस्तों मुझे उम्मीद है की आज का यह इनफार्मेशन आपको काफी पसंद आया होगा, अगर इस आर्टिकल से जुड़ा आपका कोई सवाल या सुझाब है तोह आप हमे बेफिक्र होकर कमेंट में पूछ सकते है अन्यथा स्क्रीन पर दिख रहे व्हाट्सप्प बटन पर क्लिक करके भी हमसे पूछ सकते है, और हाँ अंत तक इस आर्टिकल में बने रहने के लिए आपका धन्यबाद!

FAQs {7+ ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम}

हम एक दिन में कितनी बार ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं?

ऑप्शन ट्रेडिंग में हम एक दिन में कितनी बार ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं इसका कोई लिमिट नहीं है, आप जितनी बार चाहे उतनी बार ट्रेडिंग कर सकते है, परन्तु एक दिन में ज्यादा ट्रेडिंग करने से लोस्स होने की समभावनए षिक होती है, एक्सपर्ट ट्रेडर्स के अनुसार दिन में 4 से 5 बार ही ट्रेडिंग करना चाहिए, दिन में ट्रेडिंग कितनी बार करना है यह आपके व्यक्तित्ब पर भी निर्भर करता है।

क्या मैं इंट्राडे में रोजाना 1000 कमा सकता हूं?

क्या मैं इंट्राडे में रोजाना 1000 कमा सकता हूं, जी हाँ आप इंट्राडे में रोजाना 1000 कमा सकते है शेयर मार्केट ट्रेडिंग में प्रॉफिट होने का कोई लिमिट नहीं है, सिधांतिक रूप से कोई भी वकयक्ति जितना मर्जी उतना पैसा इंट्राडे से कमा सकता है।

ऑप्शन का प्राइस कब बढ़ता है?

ऑप्शन की कीमतें आम तौर पर तब बढ़ती हैं जब मार्केट में हाई वोलैटिलिटी होती है, एक्सपायरी तक अधिक समय होता है, या यदि अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत ऑप्शन के अनुकूल दिशा में चलती है तब (कॉल के लिए, कीमत बढ़ जाती है; पुट के लिए, कीमत कम हो जाती है)।

क्या ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम सीखना जरुरी है?

जिस प्रकार से एक ड्राइवर को गाडी चलानी तोह आती है परन्तु नियमो को फॉलो न करने पर एक्सीडेंट होता है, उसी प्रकार से अगर आपको ट्रेडिंग तोह आता है परन्तु नियम से परिचित नहीं है तोह हालिया उस ड्राइवर की ही तरह आपका भी ट्रेडिंग में लोस्स होगा, इसलिए ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम सीखना जरुरी है।

4.7/5 - (3 votes)

Hi, I'm Sushant Sharma, and I love sharing tips on making money, business ideas, stocks, mutual funds, and personal finance on my website. Join me to boost your financial knowledge and succeed!

Leave a Comment

Open chat
1
Hello!
Hi, how may I help you today?